मूसलाधार बारिश से ऊना की 19 सड़कें प्रभावित, करोड़ों का नुकसान
August 2nd, 2019 | Post by :- | 129 Views

ऊना (02 अगस्त)- मूसलाधार बारिश से जिला की 19 सड़कें प्रभावित हुई हैं, जिनमें से ज्यादातर सड़कों पर ट्रैफिक बहाल कर दिया गया है। यह जानकारी उपायुक्त ऊना संदीप कुमार ने आज यहां दी। उन्होंने कहा कि मौसम विभाग के मुताबिक जिला में 1430 प्रतिशत अधिक बारिश रिकॉर्ड की गई। आम तौर पर 10.9 मिमी वर्षा होती है लेकिन 2 जुलाई को 166.7 मिमी बारिश हुई, जिससे काफी नुकसान हुआ।
डीसी ने कहा कि बारिश के कारण बंगाणा ब्लॉक में कुल 9 सड़कें प्रभावित हुई थी, जिनमें से 6 को खोल दिया गया है जबकि हंडोला-जगातखाना, सैली से हंडोला रोड तथा ओलिंडा-बोहरू रोड अभी बंद हैं। उन्होंने बताया कि अंब ब्लॉक में भी 9 सड़कें प्रभावित हुई थी जिन्हें प्रशासन ने खोल दिया है। हरोली ब्लॉक में लैंडस्लाइड से चलते सलोह-भदौड़ी मार्ग अभी भी बंद है। संदीप कुमार ने बताया कि मूसलाधार बारिश से विभिन्न विभागों को करोड़ों रुपए का नुकसान हुआ है। सिंचाई एवं जन स्वास्थ्य विभाग को सबसे ज्यादा 4.46 करोड़ रुपए का नुकसान उठाना पड़ा है। बारिश की वजह से जिला में 64 पेयजल योजनाओं, 3 सीवरेज स्कीमों को नुकसान हुआ। इसके अलावा पीडब्ल्यूडी विभाग को 3.57 करोड़ रुपए तथा बिजली विभाग को 28.47 लाख रुपए का नुकसान झेलना पड़ा है। उन्होंने कहा कि नुकसान का सही आकलन सभी विभागों से रिपोर्ट आने के बाद ही हो पाएगा।
पंप लगाकर निकाला लोगों के घरों से पानी
उपायुक्त ने कहा कि भारी बारिश से पैदा हुई लोगों की दिक्कतों को कम करने के प्रशासन के अधिकारियों ने मुस्तैदी से काम किया। आरटीओ ऑफिस के आस-पास भारी जल भराव था और यहां पर जेसीबी लगाकर पानी निकलने का रास्ता बनाया गया। साथ ही लोगों के घरों में घुसे पानी को निकालने के पंप का इस्तेमाल भी किया गया। उन्होंने कहा कि किसी भी आपात स्थिति में 1077 टोल फ्री नंबर पर संपर्क करें।
नदी-नालों के पास न जाने की अपील
उपायुक्त ने कहा कि बारिश की वजह से जिला के नदी-नाले उफान पर हैं, ऐसे में इनके पास न जाएं। उन्होंने कहा कि आम दिनों की अपेक्षा नालों व खड्डों में जलस्तर काफी ज्यादा है। ऐसे में नदी किनारे जाना खतरनाक साबित हो सकता है। उन्होंने लोगों से सतर्क रहने की अपील की है।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।