बारिश से चार घंटे प्रभावित हुआ पठानकोट-मंडी राष्ट्रीय राजमार्ग,32 मील के पास कीचड़ में फंसे वाहन #news4
November 14th, 2022 | Post by :- | 73 Views

कोटला : सर्दियों की पहली ही बारिश से पठानकोट-मंडी राष्ट्रीय राजमार्ग में कीचड़ का आलम हो गया। जिससे वाहन चालकों को कई घंटे परेशानियों का सामना करना पड़ा। यह तक वहां से गुजर रही एक जीप पलट भी गई। गनीमत रही कि कोई जानी नुकसान नहीं हुआ। पठानकोट-मंडी राष्ट्रीय राजमार्ग 32-मील के पास जारी फोरलेन निर्माण कार्य चल रहा था। रविवार रात को हुई बारिश की बजह से सड़क पर मिट्टी आ गई। जिससे दलदल का बन गया। दलदल एवं कीचड़ की स्थिति यह थी कोई भी वाहन वहां से गुजर नहीं पा रहा था। कड़ी जद्दोजहद के बाद वाहन गुजर रहे थे। जिसके कारण पठानकोट मंडी राष्ट्रीय राजमार्ग पर सोमवार सुबह 9 बजे से दोपहर एक बजे तक वाहनों की आवाजाही के लिए बंद रहा।

लंबे जाम में खड़े वाहनों का रास्ता खुलवाकर यातायात बहाल करवाया

सुबह एक कार इसी दलदल में फिसल कर पलट गई। भगवान का शुक्र है कि कार सवार को कोई चोट नहीं आई । सड़क में भारी दलदल के कारण वाहन रेंग – रेंग का चलते रहे। मौके पर पुलिस चौकी प्रभारी संजय शर्मा अपनी टीम के साथ पहुंचे और दोनों तरफ लगभग 5 किलोमीटर लंबे जाम में खड़े वाहनों का रास्ता दोपहर लगभग एक बजे तक खुलवाकर यातायात बहाल करवाया। वही सुबह न्यू इरा स्कूल, आवर ओन स्कूल, ज्ञान ज्योति पब्लिक स्कूल भाली, आइटीआइ शाहपुर, द्रोणाचार्य कालेज रैत आदि के छात्र-छात्राएं को आने-जाने में भारी परेशानी का सामना करना पड़ा। वहीं स्थानीय निवासी पवन कुमार, सुरेश, सुरेंद्र कुमार, राजकुमार, प्रेम सिंह आदि ने विभाग से मांग की है कि जल्द ही सड़कों दुरुस्त किया जाए।

पिछले सप्ताह भी हुआ था यही हाल

पिछले सप्ताह हुई हल्की बारिश से उक्त स्थान पर यही हाल हुआ था। उस समय तो हालात यह हो गए थे कि इस रूट से रात्रि को जाने वाली निजी बसें गुजर नहीं पाईं। बस चालकों ने रात भी बसें वहीं रोककर सुबह बसें वहां से निकाली। इसके अलावा न्यू इरा स्कूल, आवर ओन स्कूल समेत तीन स्कूल के छोटे बच्चों को छुट्टी देनी पड़ी थी, क्योंकि स्कूल बसें वहां से नहीं गुजर पाईं थी, जिसको चलतें स्कूल प्रबंधन ने बच्चों को छुट्टी दे दी थी।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।