जिला कांगड़ा वाटर और एडवेंचर स्पोर्ट्स के लिए उपयुक्त : विक्रम डोगरा
November 22nd, 2019 | Post by :- | 154 Views

रिटायर्ड मेजर जनरल विक्रम डोगरा दुनिया की सबसे मुश्किल आयरनमैन ट्राइथलॉन रेस जीतने वाले भारतीय सेना के पहले अधिकारी हैं। इन्होंने न केवल आयरनमैन ट्रायथलॉन को पूरा किया था बल्कि अपना ही रिकॉर्ड तोड़कर ये इतिहास रचा था। विक्रम डोगरा दुनियाभर की सेनाओं के पहले जनरल हैं जिन्होंने यह खिताव जीता है।.

59 साल के विक्रम डोगरा ने जर्मनी में 28 जुलाई को हुए इस थका देने वाले इवेंट में अपने पहले रिकॉर्ड से भी 41 मिनट पहले ये आयरनमैन ट्रायथलॉन पूरी की थी।  हेमबर्ग में हुई ट्रायथलॉन टूर्नामेंट में उन्होंने ये रिकॉर्ड बनाया था।

शुक्रवार को धर्मशाला में हुई एक विशेष भेंट में उन्होंने बताया कि जिला कांगड़ा वाटर और एडवेंचर स्पोर्ट्स के लिए उपयुक्त है। पौंग डैम जलाशय में रिवर राफ्टिंग ,स्विमिंग जैसी गतिविधियों को शुरू करने से एडवेंचर पर्यटन को बढ़ावा मिल सकता है। इस क्षेत्र में कनेक्टिविटी अच्छी है।

रिटायर्ड मेजर जनरल विक्रम डोगरा इन दिनों जिला कांगड़ा में आयोजित होने वाली शिवालिक अल्ट्रा रन में भाग लेने पहुंचे हैं। शिवालिक अल्ट्रा रन 24 नवंबर को आयोजित होगी। शिवालिक अल्ट्रा रन प्रतियोगिता में भी पहली वार रिवर राफ्टिंग और स्विमिंग को शामिल किया गया है।

इस प्रतियोगिता में देश-विदेश के 200 से अधिक धावक भाग ले रहे हैं। विक्रम डोगरा ने बताया कि उन्होंने जुलाई 2018 में ऑस्ट्रिया में हुए आयरनमैन ट्रायथलॉन इवेंट में पहली बार हिस्सा लिया था। उस दौरान वे इंडियन आर्मी में अपनी सेवाएं दे रहे थे।

उन्होंने ट्रायथलॉन को 14 घंटे 21 मिनट में पूरा किया। हमबर्ग आयरनमैन ट्रायथलॉन में तीन लूप्स थे, जिसमें 3.86 किलोमीटर स्विमिंग, 184 साइक्लिंग और 42.2 मीटर की दौड़ शामिल थी। इन तीनों को मिलाकर 15 घंटे 50 मिनट में बिना ब्रेक के पूरा करना होता है।

इस इवेंट में 70 देशों के 2700 एथलीटों ने हिस्सा लिया। विक्रम डोगरा ने बताया कि इन तीन लूप्स में स्विमिंग काफी कठिन थी क्योंकि जिस झील में ये इवेंट हुआ उस झील का पानी शैवाल से भरा हुआ था और दिखने में लगभग काला था। शैवाल के तमाम टुकड़े आसपास ही तैर रहे थे। तमाम एथलीट पहले ही लूप में बाहर हो गए।

इसके बाद साइक्लिंग भी काफी मुश्किल हो गई क्योंकि 40 किलोमीटर प्रति घंटा की रफ्तार वाली हवा ने एथलीटों को खूब परेशान किया। डोगरा इससे पहले साइकिल से जोधपुर से जैसलमेर (285 किमी), अरुणाचल प्रदेश में सेला पास से बुमला पास (42.5 किमी), अखनूर से राजौरी (118 किमी) की दूरी तय कर चुके हैं।

इससे पहले वे कई ट्रायथलॉन में भी हिस्सा ले चुके हैं। इनमें स्प्रिंट कैटेगरी (500 मी. स्विमिंग, 20 किमी साइक्लिंग और 5 किमी मैराथन) और ओलंपिक कैटेगरी (1.5 किमी स्विमिंग, 40 किमी साइक्लिंग और 10 किमी मैराथन) शामिल हैं।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।