गर्भवती महिलाओं में विटामिन डी व खून की कमी #news4
October 26th, 2021 | Post by :- | 174 Views

बिलासपुर : जिला बिलासपुर में गर्भवती महिलाएं अपने स्वास्थ्य के प्रति कितनी जागरूक हैं, इसका अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि जिला में चेकअप करवाने के लिए पहुंची 70 प्रतिशत महिलाओं में विटामिन डी की कमी सामने आई है। यह कमी स्वास्थ्य के लिहाज से अच्छी नहीं है क्योंकि विटामिन डी एक ऐसा तत्व है जिससे न केवल महिलाओं के हड्डियों पर प्रभाव पड़ता है बल्कि पैदा होने वाले बच्चों का स्वास्थ्य भी प्रभावित होता है।

क्षेत्रीय अस्पताल बिलासपुर में चेकअप करवाने के लिए पहुंचनी वाली गर्भवती महिलाओं का चेकअप करवाने के बाद यह जानकारी मिली है। बिलासपुर जिला में प्रतिदिन करीब 150 से अधिक ओपीडी गर्भवती महिलाओं की होती है जिसमें यह बात सामने आई है कि गर्भवती महिलाओं में विटामिन डी की कमी पाई गई है। 70 प्रतिशत गर्भवती महिलाओं में विटामिन डी की कमी पाया जाना चिंता का विषय है। अंदाजन 150 में से 105 महिलाएं विटामिन डी की कमी से जूझ रही हैं।

इसके अलावा गर्भवती महिलाओं में खून की कमी भी सामने आ रही है और यह प्रतिशतता भी कम नहीं है। चेकअप करवाने के लिए आ रही 50 प्रतिशत महिलाओं में खून की कमी सामने आ रही है। हैरानी की बात है कि तीन माह में इन मामलों में बढ़ोतरी हुई है। इसके अलावा महिलाओं में भी एनीमिया की शिकायत सामने आई है।

——————–

ऐसे हो सकती है कमियां पूरी

डाक्टरों की मानें तो प्रोटीनयुक्त खाद्य वस्तुओं का सेवन कर इन कमियों को दूर किया जा सकता है। डाक्टरों की सलाह मानें तो हरी सब्जियां, दूध, दही, पनीर, अंडा आदि का सेवन कर इन कमियों को दूर किया जा सकता है। विटामिन डी की कमी को दूर करने के लिए महिलाओं को सुबह के समय धूप में बैठना चाहिए। खून की कमी दूर करने के लिए अनार, शकरकंदी आदि फल का अधिक प्रयोग करना चाहिए।

——————

कोरोना के कारण अस्पताल में महिलाएं चेक करवाने के लिए नहीं आ सकी, जिस कारण उनका चेकअप सही से नहीं हो पाया है। बिलासपुर जिला में महिलाओं में विटामिन डी और एनीमिया के मामले बढ़े हैं। विटामीन डी की कमी के मामलों में बीस से तीस केस बढ़े हैं जो अब 70 प्रतिशत हो गए हैं।

-डा. अनुपम शर्मा, स्त्री रोग विशेषज्ञ।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।