जागो …..सरकार….. मंडी में गरीब परिवार है घर से भी लाचार
August 4th, 2019 | Post by :- | 228 Views

जागो …..सरकार…..
मंडी में गरीब परिवार है घर से भी लाचार

जागो सरकार क्योंकि आपकी सत्ता में जैय-जैयकार के नारे इतने तेज जरूर होंगे कि आपतक गरीब की सिसकती आवाज न पहुंच पाए.. मगर सुननी तो पड़ेगी सरकार ..

मंडी जिला के सरकाघाट उपमंडल की ग्राम पंचायत हरि बैहना के गांव लंगेहड़ में गरीब प्रकाश चंद दो वर्षों से तंबू में रहने को मजबूर है। अगस्त, 2017 में भारी बारिश में गरीब प्रकाश चंद पुत्र मरचू राम का कच्चा मकान ध्वस्त हो गया था, जिस कारण सारा परिवार बेघर हो गया था।

हालांकि उस दौरान प्रशासन ने एक तिरपाल देकर पल्ला झाड़ दिया था। उसके बाद किसी ने भी सुध नहीं ली, तब से लेकर आज तक यह परिवार उसी तिरपाल के तंबू में जीवन बसर कर रहा है। आवास योजना के आवास भी बंदरबांट की तरह लूट लिए जाते हैं और ऐसे गरीब परिवार अपनी बारी आने के इंतजार में ही रह जाते हैं। हम लोग पंचायत चुनते हैं ताकि कागजी चक्कर के विना, निजी हालातों को समझते हुए, पंचायत लोगों की मदद कर सके । लेकिन यहां पंचायत भी अपने चहेतों के घर बनाने में ही लगी रही, ऐसे में ऐसी पंचायत को तुरंत भंग कर देना ही उचित होगा।

इस गरीब परिवार के हालात यह है कि अब तो तंबू भी फट गया है। पीडि़त परिवार वर्षों से पंचायत, प्रशासन के दर फरियाद कर चुका है, लेकिन परिवार की अनदेखी ही हुई है। इतना ही नहीं, परिवार ने मुख्यमंत्री आवास योजना के तहत गृह निर्माण के लिए एक वर्ष पूर्व फार्म भी भरे थे, लेकिन एक वर्ष का समय हो गया, इस योजना का लाभ प्रकाश चंद को आज तक नहीं मिला।

आखिर सरकार के बड़े-बड़े दावे खोखले साबित हो रहे हैं। उन्होंने कहा कि पीएम व सीएम आवास योजना और किसके लिए है। क्षेत्र में इतना गरीब परिवार शायद ही कोई हो, जिसके पास मकान बनाने के लिए मुश्किल से दो या तीन बिस्वा जमीन है और दो बेटियों का बाप है। पत्नी गृहिणी है और प्रकाश चंद दिहाड़ी-मजदूरी लगाकर अपने, परिवार का पालन-पोषण कर रहा है।

लाचारी इतनी है कि प्रकाश चंद अपनी बेटियों को पढ़ाने में भी असमर्थ है। एक बेटी अपने मामा के घर रहती है और एक बेटी साथ तिरपाल के तंबू में। प्रकाश चंद के पास जमापूंजी के रूप में एक कच्चा मकान था, वह भी एक वर्ष पूर्व बरसात की भेंट चढ़ गया था। अब इसके बाद मकान बनाने के लिए फूटी-कौड़ी भी नहीं है। सारा परिवार तिरपाल के नीचे रहने को मजबूर है। पूरी रात भय से जागकर काटते हैं। चारों तरफ से खुला होने के कारण सांप और जंगली जानवर का भी डर लगता है।

इसलिए सरकार जागो…. जागो क्योंकि आपकी सत्ता में जैयजैयकार के नारे इतने तेज जरूर होंगे कि आपतक गरीब की सिसकती आवाज न पहुंच पाए.. मगर सुननी तो पड़ेगी सरकार

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।