ऐसा क्यों /क्यों माना जाता है कि दूसरों के पेन, रुमाल और घड़ी का इस्तेमाल करना हो सकता है नुकसानदायक
October 24th, 2019 | Post by :- | 279 Views

अक्सर बड़े-बुजुर्गों कहते हैं कि दूसरों की चीजें उपयोग नहीं करनी चाहिए। खासतौर पर किसी का पेन, रुमाल या बिस्तर आदि। वास्तु में भी इसे लेकर कई तरह की बातें कही जाती हैं। मान्यता है कि दूसरों की उपयोग की गई चीजें हमारे लिए नुकसानदायक हो सकती हैं। वास्तव में ये एक अंधविश्वास है। दूसरों की चीजें उपयोग ना करने को लेकर कई सारे नियम और नुकसान बताए जाते हैं, जो अक्सर बेडलक और आर्थिक नुकसान से जुड़े होते हैं। वास्तव में, ये सही है कि दूसरों के पेन, रुमाल आदि उपयोग नहीं करना चाहिए लेकिन ये किसी अंधविश्वास के कारण नहीं है।

इसके पीछे ऊर्जा, ओरा और हेल्थ से जुड़ा विज्ञान है। वास्तु में मान्यता है कि जब हम किसी और की उपयोग की गई चीज को इस्तेमाल करते हैं तो उस इंसान की सकारात्मक और नकारात्मक ऊर्जा भी उस वस्तु के जरिए हम तक आती है, जो हमारे ओरा को बिगाड़ सकती है। रुमाल और बिस्तर जैसी चीजें हाइजिन के कारण मना की गई हैं, ये सीधे बीमारियों को एक से दूसरे तक पहुंचाने का जरिया होती हैं। नकारात्मक ऊर्जा के कारण हमारे व्यक्तित्व पर उसका गलत असर हो सकता है। इस कारण इन चीजों को किसी से मांग कर उपयोग नहीं करना चाहिए।

वास्तु में दूसरों की इन 5 चीजों के उपयोग की मनाही है

1. पेन – कई बार हम किसी काम के लिए दूसरों का पेन उधान ले लेते हैं, लेकिन काम खत्म होने के बाद उसे लौटाना भूल जाते हैं।

2. बिस्तर – वास्तु में किसी अन्य व्यक्ति के बिस्तर या पंलग पर सोना भी वास्तु दोष माना जाता है।

3. रुमाल – दूसरों से रुमाल मांगकर उपयोग करना भी शुभ नहीं माना जाता है। मान्यता ये है कि ऐसा करने से उन दोनों के बीच संबंध बिगड़ने का डर होता है।

4. वस्त्र – दूसरों के कपड़े मांगना या प्रयोग करना भी आपके लिए कई तरह की परेशानियों और दुखों का कारण बन सकता है। इसलिए दूसरों के कपड़े मांगने या पहनने से बचें।

5. घड़ी – हाथों में बनी जाने वाली घड़ी भी मनुष्य पर अच्छी-बुरी एनर्जी का प्रभाव डालती है।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।