ओपीएस बहाली पर ही देंगे सरकार का साथ #news4
June 14th, 2022 | Post by :- | 56 Views

हमीरपुर : मंगलवार को एनपीएस (न्यू पेंशन स्कीम) कर्मचारियों ने जिला में पुरानी पेंशन योजना (ओपीएस) बहाली के लिए जिला अध्यक्ष राकेश धीमान की अगुआई में रैली निकाली। इस दौरान करीब 5000 कर्मचारियों व सेवानिवृत्त कर्मियों ने भाग लिया।

महासम्मेलन को संबोधित करते हुए राज्य अध्यक्ष प्रदीप ठाकुर ने कहा कि अगर सरकार पुरानी पेंशन योजना बहाल करती है तो वे साथ देंगे वरना उन्हें अन्य विकल्पों पर विचार करना पड़ेगा। राजस्थान और छत्तीसगढ़ में ओपीएस बहाल कर दी है। इसलिए मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर भी हिमाचल में विधानसभा के मानसून सत्र से पहले ओपीएस योजना की बहाली करें।

जिलाध्यक्ष ने बताया कि जब तक उन्हें पुरानी पेंशन योजना का लाभ नहीं दिया जाता तब तक वे संघर्ष करते रहेंगे। विधानसभा के मानसून सत्र में जिला हमीरपुर से 4000 से 5000 कर्मचारी शिमला जाएंगे। रैली में महासचिव भरत शर्मा, वरिष्ठ उपाध्यक्ष सौरभ वैद, राज्य कोषाध्यक्ष शशि पाल शर्मा, उपाध्यक्ष पंकज परमार, अनिरुद्ध गुलेरिया, नित्यानंद, अमित, उपाध्यक्ष बलवंत, कन्हैया राम सैनी, नसीब सिंह, रजनीश ठाकुर, रणजीत सिंह, बलदेव, डा. सुरेंद्र सिंह डोगरा, अजय राणा, सुभाष शर्मा, शिमला जिला अध्यक्ष कुशाल शर्मा, कांगड़ा जिला अध्यक्ष राजिदर मिन्हास, जिला चंबा अध्यक्ष सुनील जरियाल, जिला बिलासपुर अध्यक्ष राजेंद्र वर्धन, जिला ऊना अध्यक्ष विजय इंदौरिया, राज्य संविधान पर्यवेक्षक श्याम लाल गौतम, जिला चंबा प्रभारी एवं राज्य मीडिया प्रभारी पंकज शर्मा, अतिरिक्त महासचिव अंकुर शर्मा, जिला चंबा महासचिव विजय शर्मा, बिजली बोर्ड कर्मचारी यूनियन के प्रदेश अध्यक्ष कुलदीप सिंह खरवाड़ा, अलका, महेश पराशर, जिला महासचिव अभिषेक ठाकुर, हमीरपुर ब्लाक अध्यक्ष हाकम राणा, नादान ब्लाक अध्यक्ष राजन, सुजानपुर के अध्यक्ष अश्वनी, भोरंज के अध्यक्ष जीवन, बिझड़ी के अध्यक्ष राजेश, प्राथमिक शिक्षक संघ के जिलाध्यक्ष रजनीश ठाकुर, उपाध्यक्ष जिला हमीरपुर मोहम्मद शफी, नीतीश भारद्वाज, नीलम, बिदु शर्मा, सुषमा, सुमन, बौद्ध, मोनिका अशोक, जितेंद्र, विनोद, राजेश गौतम, सुरेश, पवन, जसवीर, सपना आदि मौजूद रहे।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।