विंटर कार्निवाल : 82 महिला मंडलों ने एक साथ किया कुल्लवी नृत्य #news4
January 3rd, 2022 | Post by :- | 74 Views

कुल्लू  : पर्यटन नगरी मनाली में चल रहे विंटर कार्निवाल के आज दूसरे दिन भी कार्निवाल की धूम रही। एक तरफ जहां मनुरंगशाला में रंगारंग कार्यक्रमों की धूम रही तो वहीं मनाली के मॉल रोड पर कुल्लवी नृत्य की झलक भी देखने को मिली। मॉल रोड पर आयोजित कुल्लवी नृत्य का जहां बाहर से आये पर्यटकों ने खूब आनन्द लिया, वहीं आज मनाली विधानसभा क्षेत्र की राईट बैंक की 82 महिला मंडलों ने कुल्लवी नृत्य किया। इस दौरान शिक्षा मंत्री ने कहा कि यह नृत्य हमारी प्राचीन संस्कृती में से एक है और आज के समय में यह नृत्य विलुप्त होता जा रहा है। इस नृत्य को जीवित रखने के लिए मनाली में इस नृत्य का आयोजन किया जा रहा है। शिक्षा मंत्री ने कहा कि कुल्लू की नाटी काफी खूबसूरत है और इसका कहीं पर कोई मुकाबला नहीं है। आने वाली पीढी भी इस कुल्लवी नाटी को अपनाने लगी है। इसके साथ ही यह नाटी गिनीज बुक और वर्ल्ड में भी दर्ज की जा चुकी है। उन्होने कहा कि मनाली में मनाए जा रहे विंटर कार्निवाल में देश की विभिन्न संस्कृति के रंग भी देखने को मिल रहे हैं।

पंजाब से आई प्रतिभा ने बताया कि दो साल के वाद मनाली विंटर कार्निवल में प्रतियोगति में भाग लेन के लिए आए है, यहां आकर बहुत अच्छा लग रहा है। यहां पर आकर विभिन्न राज्यों से आए कलाकारों की संस्कृति देखने को मिल रही है। सभी लोग अपनी संस्कृति को लेकर जागरूक है। महिलाएं अपनी संस्कृति को बढ़ावा दे रही है। नई जगह है नई प्रतियोगिता हैं, जहां पर सभी संस्कृति को लेकर अपनी प्रस्तुति देगें, हमने पहले ऐसा कभी नहीं देखा जहां पर अपनी संस्कृति को लेकर प्रतियोगिता हो। जम्मू से आई सोलानी शर्मा ने बताया कि  विंटर कार्निवल में आए हैं पांच दिनों तक यह चलेगा, और हमें अलग -अलग संस्कृति देखने का मौका मिलेगा, हम डोगरी नृत्य पेश करेगें। उन्होंने कहा कि डोगरी नृत्य भी देश प्रसिद्व हैं, हम इंजॉय भी करेगें और कुछ सीखकर भी जाएंगे। गुड्डी देवी ने बताया कि विलुप्त हो रही संस्कृति उजागर करने का सुनहरा मौका मिला है। दूरदराज से आए लोगों को अपनी संस्कृति दिखाने का मौका मिलता है। उन्होंने कहा कि विलुप्त हो संस्कृति की झांकियां निकाली गई जिसे नई पीढी को पता चले कि हमारी संस्कृति है।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।