धर्मशाला में पुलिस महिला कांस्टेबल बनने के लिए मैदान में पसीना बहा रही युवतियां #news4
December 21st, 2021 | Post by :- | 117 Views

धर्मशाला : पुलिस मैदान धर्मशाला में महिला पुलिस कांस्टेबल भर्ती के लिए ग्राउंड प्रक्रिया चल रही है। युवतियां महिला कास्टेबल बनने के लिए मेहनत कर रही हैं। लेकिन महिलाओं की पहले दिन की भर्ती में लंबाई व ऊंची कूद युवतियों के लिए भी बड़ी बाधा बनी है। आधे से ज्यादा युवतियां इस चुनौती को पार नहीं कर सकी हैं। हालांकि सर्दी का यह मौसम भी भर्ती के लिए आई युवतियों के लिए परेशानी खड़ी कर रहा है।

1079 में से 687 युवतियां पास नहीं कर सकी मैदान

सोमवार को ग्राउंड प्रक्रिया के लिए 1500 महिला उम्मीदवारों को काल लेटर जारी किए गए थे। इसमें से केवल 1079 महिला उम्मीदवार परीक्षा के लिए पहुंची। इसमें जिनमें से 07 अभ्यर्थी दस्तावेज सही न होने के कारण भर्ती प्रक्रिया में शामिल न हो सकी व 392 उम्मीदवार शारीरिक क्षमता एवं दक्षता परीक्षा में सफल हुई हैं। इसके विपरीत 687 युवतियों ग्राउंड पास नहीं कर पाईं। जिसमें लंबाई के माप में 283, लंबी कूद में 78, ऊंची कूद में 301 व दौड़ में 18 अभ्यर्थी असफल हुई हैं।

महिला कांस्टेबल के 68 पदों के लिए आए हैं 11756 आवेदन

पुलिस कांस्टेबल के 293 पद हैं। इसमें पुरुष कांस्टेबल के 205, महिला कांस्टेबल की 68 व पुरुष चालक के 20 पद हैं। इन पदों के लिए विभाग के पास 49 हजार 926 आवेदन प्राप्त हुए हैं। पुरुष कांस्टेबल के लिए 36 हजार 793 आवेदन प्राप्त हुए हैं। पुरुष चालक पद के लिए 1377, जबकि महिला कांस्टेबल पदों के लिए 11 हजार 756 आवेदन प्राप्त हुए हैं। भर्ती प्रक्रिया जारी है।

 

यह बोले पुलिस अधीक्षक

पुलिस अधीक्षक कांगड़ा डा. खुशहाल शर्मा ने बताया कि ग्राउंड प्रक्रिया में पारदर्शिता के लिए 11 सीसीटीवी कैमरे स्थापित किए गए हैं। वहीं ओवरआल निगरानी के लिए ड्रोन कैमरे की भी मदद ली जा रही है। पुलिस भर्ती के आने वाले अभ्यर्थी को अल्पाहार जलपान व कोविड-19 महामारी से बचाव हेतु कोविड प्रोटोकाल किट प्रदान की गई है। पुलिस भर्ती प्रक्रिया के दौरान सफल हुई अभ्यर्थियों की सूचना पुलिस अधीक्षक कार्यालय, ज़िलाकांगड़ा स्थित धर्मशाला व पुलिस लाईन धर्मशाला में नोटिस बोर्ड पर लगाई गई है।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।