महिला दिवस : इस वृद्ध महिला की दुखभरी दास्तां सुनकर पसीज जाएगा आपका दिल #news4
March 8th, 2022 | Post by :- | 94 Views

ऊना : पूरा देश जहां आज महिला दिवस मना रहा है, वहीं एक ऐसी भी महिला है जो बोलने व सुनने में असमर्थ है। उक्त महिला पिछले कुछ वर्षों से एक झोंपड़ीनुमा घर में अकेल रह रही है। उक्त महिला किसी मसीहा के इंतजार में है ताकि उसकी फरियाद भी सुनी जा सके। हम बात कर रहे हैं चिंतपूर्णी विधानसभा क्षेत्र के तहत सब तहसील जोल के अंतर्गत आती ग्राम पंचायत बैरियां के वार्ड नंबर-4 की 65 वर्षीय कृष्णा देवी की। इस अकेली वृद्धा की फरियाद सुनने वाला कोई नहीं है। न रहने को कोई पक्का कमरा, न रसोई और न टॉयलेट जैसी मूलभूत सुविधा मौजूद है। सामाजिक सुरक्षा पैंशन के सहारे यह वृद्धा जीवन यापन कर रही है। स्थिति यह है कि ग्राम पंचायत में यह वृद्धा बीपीएल श्रेणी में भी नहीं है। पति की 2 वर्ष पहले मौत हो चुकी है। एक बेटी थी जिसकी शादी हो चुकी है। खेत में खड़पोश एक कमरा बनाया है जिसकी छत भी अस्थाई डंडों से तैयार की गई है, जिस पर मिट्टी का लेपन किया गया है। आय का कोई साधन नहीं है। इस अवस्था में यह असहाय रह रही है। उज्जवला योजना के तहत गैस सिलैंडर तो मिला है लेकिन उसका प्रयोग नहीं करती है। कहना यह है कि एक बार प्रयोग करने के बाद उसे भरना मुश्किल है। लकड़ी के चूल्हे से ही अपना भोजन तैयार करती है।

अपनी व्यथा को बयां करे तो कैसे

दिक्कत यह है कि अपनी व्यथा को बयां भी कैसे करे। बोल सकती नहीं और न ही सुन सकती है। शिक्षित भी नहीं कि लिख-पढ़ सके। ऐसी अवस्था में यह अपना दर्द अंदर ही अंदर महसूस करती है। इशारों से दर्द को बंया करने की कोशिश करती है लेकिन इसकी व्यथा समझे भी तो कौन? सामाजिक सुरक्षा पैंशन से ही इस वृद्ध महिला का गुजारा चल रहा है। डिपो से राशन लेती है। सबसे बड़ी दिक्कत तो यह है कि यदि इसे चीज की जरूरत हो तो यह बयां भी नहीं कर पाती है। किसी को तरस आए तो कुछ मदद कर दे अन्यथा उसके लिए यह संसार अब वीरान-सा लगता है। जब उसकी इस हालत को कोई देखता है तो उसकी आंखों से भी आंसू निकल पड़ते हैं।

क्या कहते हैं वार्ड पंच और प्रधान

वार्ड नंबर-4 के पंच संजीव कुमार ने माना कि इस वृद्धा को किसी मसीहा का इंतजार है। इसका दर्द न देखा जाता है और न ही सहा जाता है। सरकार को इसकी सहायता करनी चाहिए। वहीं राम पंचायत प्रधान बैरियां के प्रधान सुखदेव ने माना कि वृद्धा की स्थिति दयनीय है। ग्राम पंचायत द्वारा उसे बीपीएल में डालने का मामला विचाराधीन है। घर निर्माण के लिए उसका नाम चयनित किया गया है। अभी इसकी मंजूरी नहीं मिली है। आर्थिक स्थिति बदहाल है। बोलने और सुनने में यह वृद्धा असमर्थ है। झोंपड़ी भी सही अवस्था में नहीं है।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।