मॉनसून में रिस्क कम करने की दिशा में काम करें अधिकारीः डीसी… आपातकालीन संचालन केंद्र का टोल फ्री नंबर 1077, आपदा में मांगें मदद
June 20th, 2019 | Post by :- | 136 Views

मॉनूसन के दौरान बेहतर आपदा प्रबंधन के लिए उपायुक्त ऊना संदीप कुमार की अध्यक्षता में जिला आपदा प्रबंधन प्राधिकरण की एक बैठक आज बचत भवन में हुई। बैठक में उपायुक्त ने कहा कि आपदा को रोका तो नहीं जा सकता, लेकिन इससे होने वाले जान व माल के नुकसान को कम किया जा सकता है। इससे लिए आवश्यक है कि सभी इंतज़ाम पहले से कर लिए जाएं और विभागों के बीच बेहतर तालमेल हो। उन्होंने कहा कि जुलाई के पहले हफ्ते तक हिमाचल प्रदेश में मॉनसून आने की उम्मीद है और ऐसे में विभागों को रिस्क कम करने की दिशा में काम करने के प्रयास करने होंगे।
बैठक के दौरान डीसी ने जिला के सभी उप मंडल अधिकारियों को आवश्यक सामान की सूची तैयार करने तथा फील्ड में जाकर निरीक्षण करने के निर्देश दिए। साथ ही पुलिस व होमगार्ड के अधिकारियों से त्वरित प्रतिक्रिया टीम (क्यूआरटी) बनाने को कहा ताकि बरसात के दौरान किसी भी प्रकार की आपदा से निपटने के लिए सुरक्षा बलों के जवान तैयार रहें।
उन्होंने लोक निर्माण विभाग व नगर परिषद के अधिकारियों को समय रहते नालियों की सफाई करने को कहा, ताकि बरसात का पानी निकल सके। आईपीएच विभाग को उन्होंने सभी पेयजल योजनाओं का रख-रखाव प्राथमिकता के आधार पर करने के निर्देश दिए। साथ ही बिजली विभाग के अधिकारियों को लाइनों की आवश्यक मरम्मत समय पर करने को कहा। इसके अलावा उन्होंने कहा कि खाद्य एवं आपूर्ति विभाग बरसात के दौरान जिला में आवश्यक वस्तुओं की आपूर्ति सामान्य बनाने रखने के लिए समय रहते आवश्यक कदम उठाए।


आपातकालीन संचालन केंद्र का टोल फ्री नंबर 1077
उपायुक्त संदीप कुमार ने जानकारी दी कि जिला में आपातकालीन संचालन केंद्र स्थापित किया गया है। इस केंद्र का टोल फ्री नंबर 1077 तथा लैंडलाइन नंबर 01975-225049 है। उन्होंने कहा कि मौसम विभाग समय-समय एडवाइजरी जारी करता है, जिस पर सभी अधिकारी नज़र रखें और हालात के अनुसार कार्य करें। डीसी ने सभी विभागों के अधिकारियों को बरसात के दौरान होने वाले नुकसान की रिपोर्ट तुरंत भेजने के निर्देश भी दिए।


आवश्यक दवाओं का इतंजाम रखें
स्वास्थ्य विभाग को निर्देश देते हुए डीसी ने कहा कि जिला के सभी स्वास्थ्य केंद्रों में जीवन रक्षक दवाओं की पर्याप्त स्टॉक उपलब्ध करें। इसके अलावा बरसात के दौरान होने वाले डेंगु, मलेरिया व चिकनगुनिया जैसे रोगों के बारे में भी लोगों को जागरूक करें। साथ ही सांप के काटने पर दी जाने वाली दवा का भी इंतजाम करें।


ये अधिकारी रहे उपस्थित
इस बैठक में एडीसी अरिंदम चौधरी, एएसपी ऊना विनोद कुमार धीमान, एसडीएम तोरुल एस रवीश, डॉ. सुरेश जसवाल, गौरव चौधरी, जिला पंचायत अधिकारी रमन शर्मा, सीएमओ डॉ. रमन शर्मा, जिला खाद्य आपूर्ति नियंत्रक ओम प्रकाश, जिला राजस्व अधिकारी विद्याधर नेगी, उप निदेशक कृषि सुरेश कपूर, उप निदेशक प्रारंभिक शिक्षा संदीप कुमार सहित विभिन्न विभागों के अधिकारी उपस्थित रहे।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।