बीते हुए समय को कितना भी पैसा खर्च करके वापस प्राप्त नहीं कर सकते, इसीलिए हर पल खुश रहें
December 31st, 2019 | Post by :- | 171 Views

अधिकतर लोग पैसा कमाने के लिए लगातार काम करते रहते हैं और अपने घर-परिवार पर ध्यान नहीं देते। खुद के लिए भी समय नहीं निकाल पाते हैं। ऐसे लोगों को जीवन के अंतिम दिनों पछताना पड़ता है। इस संबंध में एक लोक कथा प्रचलित है। जानिए ये कथा…

  • प्रचलित लोक कथा के अनुसार पुराने समय में एक व्यक्ति बहुत धनवान था और वह हमेशा ही पैसा कमाने में व्यस्त रहता था। उसके परिवार में सभी इस बात से दुखी थे। व्यक्ति के पास बहुत धन था, लेकिन उसने कभी भी खुद के लिए अच्छे कपड़े नहीं खरीदे, कभी भी अच्छा खाना नहीं खाया, परिवार वालों के साथ कहीं घूमने नहीं गया, उसने कभी भी धन का उपयोग नहीं किया। उसे सिर्फ पैसा कमाने में ही मजा आता था।
  • काफी वर्षों तक ऐसे ही चलता रहा। उसे इस बात का ध्यान ही नहीं कि उसका बुढ़ापा आ गया है। इस अवस्था में भी वह लगातार पैसों के लिए ही काम करता रहा, जल्दी ही उसका अंतिम समय भी आ गया।
  • जब उस व्यक्ति का अंतिम समय आया तो एक दिन यमराज उसके सामने प्रकट हुए। यमराज को देखकर वह डर गया। यमराज ने उससे कहा कि तुम्हारा समय पूरा हो गया है। अब तुम्हें मेरे साथ चलना होगा। व्यक्ति ने यमराज से कहा कि अभी तो मैंने मेरा जीवन ठीक से व्यतीत ही नहीं किया है। मैंने परिवार के साथ समय नहीं बिताया। अब मैंने बहुत पैसा कमा लिया है, मैंने परिवार के साथ रहना चाहता हूं, तीर्थ यात्रा करना चाहता हूं। कृपया मुझे कुछ और समय दें।
  • यमराज ने कहा कि नहीं, ऐसा नहीं हो सकता, तुम्हारा जीवन आज खत्म हो गया है। तुम्हें मेरे साथ चलना ही होगा। व्यक्ति ने कहा कि आप मेरा आधा धन ले लीजिए, लेकिन मुझे सिर्फ एक माह और जीवन दान दे दीजिए। यमराज ने इसके लिए मना कर दिया। व्यक्ति ने फिर कहा कि आप मेरा सारा धन ले लो, लेकिन मुझे सिर्फ एक दिन और जीने दो। यमराज ने उससे कहा कि नहीं, ऐसा संभव नहीं है। धन में इतनी शक्ति नहीं है कि वह बीता हुआ समय खरीद सके। समय अमूल्य होता है। इसका मूल्य नहीं लगाया जा सकता।
  • व्यक्ति को समझ आ गया कि उसने धन के लालच में पूरा जीवन गंवा दिया। धन की वजह से पूरा जीवन व्यर्थ हो गया है।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।