नन्हें और युवा कलाकारों ने सजाई लोकगीतों की महफिल सामप्रिय कला समिति ने भाषा, कला एवं संस्कृति विभाग के सहयोग किया आयोजन
September 23rd, 2019 | Post by :- | 133 Views

सामप्रिय कला विकास समिति ने भाषा, कला एवं संस्कृति विभाग के सहयोग से रविवार देर शाम देव सदन में लोकगीत संध्या का आयोजन किया। इस संध्या में सामप्रिय कला विकास समिति के नन्हें और युवा कलाकारों ने पारंपरिक कुल्लवी और अन्य प्राचीन पहाड़ी लोकगीतों की शानदार महफिल सजाई। कार्यक्रम के दौरान समाजसेवी सुभाष शर्मा मुख्य अतिथि और जिला लोक संपर्क अधिकारी प्रेम ठाकुर विशिष्ट अतिथि के रूप में मौजूद रहे।
वंदे मातरम् और सरस्वती वंदना के साथ आरंभ हुई लोकगीत संध्या के दौरान सामप्रिय कला विकास समिति के प्रशिक्षु कलाकारों ने कुल्लवी और अन्य पारंपरिक पहाड़ी लोकगीतों की एक से बढ़कर एक प्रस्तुतियों से दर्शकों का भरपूर मनोरंजन किया। पारंपरिक धुनों पर इन नन्हें और युवा कलाकारों ने लोक गायन की कई विधाओं के ऐसे लोकगीत प्रस्तुत किए, जिनकी मौलिकता लुप्त होने के कगार पर है। नन्हीं कलाकार यशस्वी व मोक्षिका ने पारंपरिक गीत ‘भावा रूपिये ओ’ और ओजस ने झूरी लोकगीत की बहुत उम्दा प्रस्तुतियों से सबको मंत्रमुग्ध कर दिया।
हूमा, सोनिया, प्रेमा, अंकिता और अन्य बाल कलाकारों ने ‘लाल चीडिय़े सेरी न जाणा’ और ज्योति ने लाड़ी सूरमा नाटी के माध्यम से लोकगीत की मीठी स्वर लहरियां बिखेरीं। हर्ष, वीर सिंह और साथियों ने पारंपरिक गीत जोतां रा मिर्ग प्रस्तुत किया। कार्यक्रम का मुख्य आकर्षण युवा कलाकार छविंद्र की प्रस्तुतियां रहीं। उन्होंने किसी वाद्य यंत्र के बगैर ही केवल अपने मुख से ही शहनाई जैसे पारंपरिक वाद्य यंत्र की कई धुनें पेश करके सबको आश्चर्यचकित कर दिया।
लोकगीत संध्या के लिए सामप्रिय कला विकास समिति की सराहना करते हुए मुख्य अतिथि सुभाष शर्मा ने कहा कि इस तरह के आयोजनों से जहां हमारी प्राचीन संस्कृति का संरक्षण होता है, वहीं प्रतिभाशाली लोक कलाकारों को भी मंच मिलता है। इससे पहले सामप्रिय कला विकास समिति के अध्यक्ष डा. राजेश और अन्य पदाधिकारियों ने मुख्य अतिथि व अन्य अतिथियों का स्वागत किया। संध्या के समापन अवसर पर जिला लोक संपर्क अधिकारी प्रेम ठाकुर ने सभी प्रतिभागियों को पुरस्कृत किया। इस मौके पर प्रैस क्लब अध्यक्ष धनेश गौतम, हिमाल नचिकेत दास, टीचर होम सोसाइटी के अध्यक्ष श्याम लाल हांडा, महासचिव करतार चंद और अन्य गणमान्य लोग भी उपस्थित थे।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।