1 अप्रैल 2023 से इन 17 कारों का प्रोडक्शन हो जाएगा बंद, सस्ती और छोटी कारें भी हैं शामिल, जानिए वजह
January 2nd, 2023 | Post by :- | 245 Views
नई दिल्ली। कई कार कंपनियां 1 अप्रैल 2023 से अपनी कारों के प्रोडक्शन को बंद करने जा रही है। होंडा, महिंद्रा, मारुति जैसी कंपनियां भी शामिल हैं। दरअसल, देश में अप्रैल से नए एमिशन नॉर्म्स लागू होने वाले हैं। हालांकि ये कोई नया नॉर्म्स नहीं हैं बल्कि BS6 का ही स्टेज-2 एमिशन नॉर्म्स होगा।
नए नियम लागू होने से कारों की कीमतों में बढ़ोतरी होगी, वहीं दूसरी ओर नया एमिशन लागू होने के बाद कई कारों में बहुत से बदलाव करने होंगे जिसके चलते कारों की कीमत बढ़ना तय है। इस कारण से कंपनियां कारों के प्रोडक्शन को बंद भी कर देगी। आने वाले समय में काफी कम डीजल कारें देखने को मिलेंगी और डीजल इंजन वाली छोटी कारें तो बहुत कम हो सकती हैं। इन कारों में छोटी और सस्ती कारें भी शामिल हैं, जो मीडिल क्लास की पसंद हैं।
ये 17 कारों का प्रोडक्शन होगा बंद : खबरों के अनुसार अभी शुरुआती दौर में कुल 17 ऐसी कारें हैं जो अप्रैल से पहले बाजार से हटा दी जाएंगी। होंडा आने वाले नए उत्सर्जन मानदंडों के कारण होंडा जैज़, होंडा डब्ल्यूआर-वी, होंडा अमेज़ डीजल, होंडा सिटी 4 जेन और नई होंडा सिटी 5 जेनरेशन डीजल जैसी कारों को बाजार से बंद कर देगी।

बाजार में कम डिमांड के चलते महिंद्रा भी अपनी अल्टूरस G4 (Mahindra Alturas G4), मराजो (Marazzo) और KUV100 जैसी कारों का प्रोडक्शन भी बंद कर दिया जाएगा। मारुति सुजुकी जैसी कार निर्माता कंपनी तो काफी पहले से ही डीजल कार बनाना बंद कर चुकी है।

क्या हैं नए एमिशन : नए एमिशन को RDE (रियल ड्राइविंग एमिशन) नॉर्म्स भी कहा जा रहा है। इसके चलते कई वाहन बंद किए जा सकते हैं। RDE वाहन में दिया गया एक ऐसा ऑनबोर्ड सेल्फ डायग्नोस्टिक डिवाइस है जो वाहन के रियल टाइम में वाहन के ड्राइविंग एमिशन को मॉनिटर करता है।
इन कारों का बंद हो सकता है प्रोडक्शन : मारुति सुजुकी ऑल्टो 800, होंडा जैज, होंडा डब्ल्यूआर-वी, होंडा अमेज डीजल, होंडा सिटी चौथी पीढ़ी, होंडा सिटी 5वीं जेन डीजल, महिंद्रा अल्टुरस G4, महिंद्रा मराज़ो, महिंद्रा केयूवी100, स्कोडा सुपर्ब, स्कोडा ऑक्टेविया, रेनो क्विड 800, हुंडई i20 डीजल, हुंडई वेरना डीजल, टाटा अल्ट्रोज़ डीजल, निसान किक्स।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।