अचानक देर रात लगी आग से तीन मंजिला मकान राख, लाखों का नुक्सान
January 9th, 2023 | Post by :- | 45 Views

भरमौर : भरमौर उपमंडल मुख्यालय में आग से एक तीन मंजिला मकान राख हो गया। इस अग्निकांड में करीब 15 लाख रुपए का नुक्सान होने का अनुमान है। भरमौर पंचायत की वार्ड मैंबर अंजना पत्नी स्वर्गीय पवन कुमार ने बताया कि रविवार देर रात अचानक उसके मकान में आग लग गई। इससे मकान में करीब 9 कमरे राख के ढेर में तबदील हो गए। घटना की जानकारी मिलते ही पूरे भरमौर से लगभग 400 लोगों ने आग बुझाने में अपना सहयोग दिया, लेकिन देवदार और कैल की लकड़ी में लगी आग पर काबू नहीं पाया जा सका तथा मकान पूरी तरह जल गया। लोगों ने कड़ी मशक्कत के बाद रात लगभग 2 बजे आग पर काबू पाया। आग को बुझाने के लिए खड़ली नाले से लोगों ने लाइन लगाकर बाल्टियों व अन्य वर्तनों से पानी ढोकर आग बुझाई। देर रात जिसे भी आग लगने की सूचना मिलती लोग अपने घरों से बाल्टी समेत अन्य जो भी बर्तन मिलता उसे उठाकर आग बुझाने के लिए दौड़ते, लेकिन प्रचंड रूप से फैली आग पर काबू नहीं पाया जा सका।

अग्निशमन वाहन में पानी नहीं, नाले से भरा पानी, तब तक हो चुका था सब राख
खड़ामुख स्थित अग्निशमन केंद्र से वाहन भी घटनास्थल पर पहुंचे, लेकिन वे कुछ नहीं कर पाए तथा आग को सिर्फ आसपास के क्षेत्र से फैलने से रोका। बताया जा रहा है कि अग्निशमन विभाग के इन वाहनों में पानी ही नहीं था। भरमौर पहुंचने के बाद पट्टी नाले से जब तक पानी भरकर ये वाहन भरमौर पहुंचे तब तक आग प्रचंड रूप धारण कर चुकी थी।

आग लगने के बाद पड़ोसियों के पास ली शरण
भरमौर में आग लगने के बाद अंजना ने परिवार सहित पड़ोसियों के पास शरण ली। रिश्तेदारों समेत आसपास के यहां जिस किसी को भी घटना की जानकारी मिली लोग मौके पर आकर प्रभावित परिवार को अपनी तरफ से हरसंभव सहायता करने की मदद करते रहे।

प्रभावित को दी गई है राहत राशि
उधर, भरमौर प्रशासन की ओर से एस.डी.एम. असीम सूद ने 15,000 रुपए की तुरंत राहत राशि प्रभावित परिवार को दी है। राजस्व विभाग के अधिकारियों को नुक्सान का  आकलन लगाकर शीघ्र तमाम औपचारिकताएं पूरी करने के आदेश दिए हैं ताकि और अधिक राहत राशि प्रभावित परिवार को दी जा सके।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।