गाड़ी को धक्‍का लगाने के बहाने बस स्‍टैंड से अंधेरे में ले गए और चाकू दिखाकर लूट लिए पैसे #news4
November 26th, 2022 | Post by :- | 133 Views

बिलासपुर, संवाद सहयोगी। Himachal Pradesh News, हिमाचल प्रदेश में भी अब लूट के मामले सामने आने लगे हैं। बिलासपुर में एक व्‍यक्ति से तीन लोगों ने हथियार दिखाकर पैसे लूट लिए। पुलिस चौकी बिलासपुर में एक व्यक्ति से डरा धमका कर पैसे लूटने की शिकायत की थी, इसके बाद पुलिस ने कार्रवाई करते हुए तीन लोगों को गिरफ्तार किया है। राकेश कुमार पुत्र त्रिलोक सिंह निवासी गांव पाली प्लाट डाकघर थुरान तहसील झंडूता ने शिकायत दर्ज करवाई थी कि 12 नवंबर को वह घर जा रहा था, लेकिन बस न मिलने के कारण वह लेट हो गया तथा बस स्टैंड में ही सो गया।

गाड़ी को धक्‍का देने के बहाने ले गए एकांत में

समय करीब 10:30 बजे रात दो लड़के उसके पास आए तथा कहा कि मेन मार्केट के पास उनकी गाड़ी खराब हो गई है तथा धक्का लगाने में मदद करने का आग्रह किया। इस पर वह उनके साथ सब्जी मंडी होते हुए मेन मार्केट रोड पर पहुंचा तो उसी समय उनमें से एक लड़के ने उसे रोका तथा दूसरे लड़के ने उसकी पीठ पर कोई नुकीली चीज रखकर जान से मारने की धमकी देकर उसकी पैंट की पिछली जेब से पर्स निकाल लिया। शातिरों ने पर्स से 15 सौ रुपये निकाल लिए। आरोपितों ने पैसे निकालकर पर्स वहीं फेंक दिया और उसे धक्का देकर भाग गए।

24 घंटे में पकड़ा एक आरोपित

पुलिस ने सीसीटीवी फुटेज की सहायता व गुप्त सूत्रों से सूचना एकत्रित करके तथा छानबीन करने पर घटना में संलिप्त एक आरोपित 22 वर्षीय शिवा टांक निवासी लोअर निहाल नजदीक चिलिंग प्लांट जिला बिलासपुर को मामला दर्ज करने के 24 घंटे के अंदर गिरफ्तार कर लिया। आरोपित को अदालत में पेश कर पांच दिन का पुलिस रिमांड हासिल किया गया।

पुलिस पूछताछ में उगला सारा सच

गहनता से पूछताछ में आरोपित ने अपने दो अन्य साथियों के घटना में संलिप्त होना कबूल किया। इस घटना के अलावा इन्होंने इसी तरह की दो अन्य घटनाओं को भी अंजाम दिया है। पुलिस ने घटना में शामिल दोनों आरोपितों अफरीदी निवासी हाउस नंबर  25 गांधी मार्केट जिला बिलासपुर व शुभम उर्फ कन्नू निवासी लोअर निहाल जिला बिलासपुर को गिरफ्तार किया है। मामले की पुष्टि डीएसपी राजकुमार ने की है।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।