प्रेग्नेंसी आपके रिश्ते में ला सकती है ये 5 बदलाव #news4
December 3rd, 2022 | Post by :- | 109 Views

आप दोनों पिछले काफ़ी समय से ट्राय कर रहे थे. अब फ़ाइनली आपको गुड न्यूज़ मिली है. आपके प्रेग्नेंट होने की ख़बर से आप ही नहीं, पार्टनर भी काफ़ी ख़ुश है. पर अक्सर शादीशुदा जोड़ों में प्रेग्नेंसी की शुरुआती ख़ुशी कुछ ही दिनों में काफ़ूर हो जाती है. आपके शरीर में आ रहे बदलावों के साथ-साथ पार्टनर के साथ आपका रिश्ता भी धीरे-धीरे बदलना शुरू हो जाता है. कह सकते हैं कि जैसे-जैसे अपने पेट में पल रहे बच्चे के साथ आपका बॉन्ड मज़बूत होता है, पार्टनर के साथ आपका रिश्ता नई करवट लेन लगता है. कुछ आम बदलावों के बारे में आपको पता होगा तो यह बदलाव कड़वाहट या किसी झगड़े में परिवर्तित नहीं होगा.

पहला बदलाव: आप ज़्यादा अटेंशन चाहेंगी
प्रेग्नेंसी के दौरान चूंकि महिलाओं में शारीरिक के साथ-साथ इमोशनल बदलाव भी आने शुरू होते हैं, एक समय बाद उन्हें लगने लगता है कि पार्टनर द्वारा उन्हें अटेंशन नहीं मिल रहा है. पार्टनर उनका उस तरह ख़्याल नहीं रखता, जैसा रखा जाना चाहिए. यह बात आपसे ज़्यादा, आपके पार्टनर को पता होनी चाहिए, ताकि उसे यह समझ में आए कि आप ऐसा हार्मोनल बदलावों के चलते कह या कर रही हैं. वह आपका सचमुच ज़्यादा ध्यान रखेगा और आपके कथित नखरों को हंसी-ख़ुशी से झेल जाएगा. आपको एक्स्ट्रा जादू की झप्पी देने में कोई कोताही नहीं बरतेगा.

दूसरा बदलाव: पार्टनर के साथ आपकी अंतरंगता बढ़ेगी 
जब आप प्रेग्नेंट होती हैं तो पार्टनर और आपका ध्यान घर आनेवाले नन्हे मेहमान के स्वागत की तैयारी पर रहता है. आप दोनों हर काम उसी के लिए करते हैं. उसके लिए नाम सोचते हैं. कपड़े और दूसरे सामान ख़रीदते हैं. पार्टनर आपके शरीर में आ रहे बदलावों को देखते हुए आपका ज़्यादा ध्यान रखने लगता है. आप दोनों डॉक्टर से मिलते जाते समय एक-दूसरे के साथ रहते हैं. लंबा समय साथ बिताते हैं. बच्चे का अल्ट्रासाउंड देखने की एक्साइटमेंट दोनों को ही होती है. इस तरह आप दोनों के बीच प्यार पहले की तुलना में कई गुना बढ़ जाता है.

तीसरा बदलाव: पैरेंट बनने का एक्साइटमेंट हो सकता है कम या ज़्यादा 
यह बात सच है कि आप दोनों पैरेंट बनने जा रहे हैं तो इसको लेकर एक्साइटेड होंगे, पर ज़रूरी नहीं कि एक्साइटमेंट का लेवल दोनों में एक जैसा हो. चूंकि आप मां बनने वाली हैं, बेबी आपके पेट में हैं तो आप प्रेग्नेंसी का पता चलने के पहले दिन से ही बेबी से जुड़ाव महसूस करेंगी. आपके शरीर में आनेवाले बदलाव आपको बेबी के डेवलपमेंट का संकेत देते रहेंगे. उसकी ही हलचल आपको पता चलेगी. आपका मातृत्व बढ़ता रहेगा. वहीं जब बेबी किक करने लगेगा और आपके पति आपके पेट पर हाथ रखकर महसूस करेंगे तो उन्हें भी लगाव महसूस होना शुरू हो जाएगा. बावजूद इसके आपके पति सही मायने में बच्चे से आप जैसा जुड़ाव तब महसूस करेंगे, जब वह बाहर आएगा. आपको इस बुनियादी फ़र्क़ को समझना चाहिए, बजाय पति द्वारा ज़्यादा एक्साइटमेंट न दिखाने को लेकर निराश होने या लड़ने-झगड़ने या रूठने के.

चौथा बदलाव: आपकी सेक्स लाइफ़ पटरी से उतर जाएगी 
प्रेग्नेंसी के दौरान भावनात्मक जुड़ाव बेशक बढ़ता है, पर ज़्यादातर कपल्स की सेक्स लाइफ़ पटरी से उतर जाती है. पहले ट्रायमिस्टर में थकान, कमज़ोरी, उल्टी आने जैसे लक्षणों के चलते आपका मन सेक्स के लिए तैयार नहीं होता. आगे के ट्रायमिस्टरर्स में शरीर में आने वाले बदलाव सेक्स को अनकंफ़र्टेबल बना देते हैं. हालांकि यह देखा गया है कि महिलाओं के अंदर आनेवाले हार्मोनल बदलाव सेक्स के लिए मूड सेट करते हैं, पर उनके शरीर के बदलावों के चलते पार्टनर सेक्स से कतराते हैं. कुल मिलाकर प्रेग्नेंसी के दौरान सेक्स की फ्रीक्वेंसी में कमी आती ही है. और एक ज़रूरी बात, अगर आप दोनों सेक्स करना चाहते ही हैं तो इस बारे में अपने गायनाकोलॉजिस्ट की सलाह ज़रूर लें.

पांचवां बदलाव: आपके मन में रिश्ते को लेकर कुछ डर लगातार बने रहते हैं 
प्रेग्नेंसी का फ़ेज़ किसी भी महिला के जीवन के सबसे यादगार फ़ेज़ होता है. आपको इसे एन्जॉय करना चाहिए. पर इस दौरान महिलाओं के मन में कई तरह के डर और असुरक्षा घर कर जाती है. उनके मन में हज़ारों अनसुलझे सवाल होते हैं. सबसे पहले तो यह कि क्या बेबी होने के बाद मेरी ज़िंदगी पहले जैसी रहेगी? क्या डिलिवरी ठीक तरह से हो जाएगी? क्या मेरा शरीर डिलवरी के बाद पहले जैसा हो जाएगा? क्या मुझे पार्टनर से पहले की तरह प्यार मिल सकेगा? क्या मेरी सेक्स लाइफ़ पहले की तरह हो जाएगी? इस तरह के सवाल आपके मन में कई तरह के डर पैदा कर सकते हैं. आपको इस तरह के सवालों और ख़्यालों से बचकर अपनी प्रेग्नेंसी को एन्जॉय करना चाहिए.

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।