HPBOSE : प्राइवेट स्कूलों को संबद्धता प्राप्त करने के लिए मानकों में दी जा रही ढील होगी समाप्त #news4
November 23rd, 2022 | Post by :- | 117 Views

धर्मशाला : हिमाचल प्रदेश स्कूल शिक्षा बोर्ड 9वीं से 12वीं कक्षा की संबद्धता प्राप्ति हेतु आवेदन करने वाले प्राइवेट स्कूलों को मानकों में दे रहा ढील धीरे-धीरे समाप्त करने की दिशा में कदम बढ़ा रहा है। कोविड के चलते बोर्ड ने संबद्धता प्राप्ति हेतु प्राइवेट स्कूलों को तय मानकों में ढील दी थी लेकिन अब कोरोना का प्रकोप कम होने के कारण अब यह ढील समाप्त हो जाएगी। जानकारी के मुताबिक स्कूल शिक्षा बोर्ड 9वीं से 12वीं कक्षा वाले प्राइवेट स्कूलों को संबद्धता, नवीनीकरण संबद्धता, कक्षा स्तरोन्नत सहित अन्य संबद्धता देता है। संबद्धता प्राप्ति के लिए कुछ जरूरी मानक होते हैं, जिन्हें इन प्राइवेट स्कूलों को पूरा करना होता है। बोर्ड द्वारा बाकायदा निरीक्षण किया जाता है।

कोविड से पहले इन स्कूलों की जांच की जाती थी कि ये स्कूल जरूरी मानक पूरा करते हैं कि नहीं तभी बोर्ड इन स्कूलों की संबद्धता देने की प्रक्रिया में आगे बढ़ता था लेकिन कोविड के कारण स्कूल शिक्षा बोर्ड ने संबद्धता हेतु मानकों में ढील दी थी। कोविड के दौरान इन स्कूलों से एफिडेविट लिया जा रहा था। इन एफिडेविट में संबद्धता प्राप्ति हेतु जरूरी औपचारिक्ताओं पूर्ण करने की बात स्कूलों द्वारा बताई जा रही थी। कोविड के दौरान बहुत कम संख्या में इन स्कूलों का निरीक्षण किया गया था लेकिन अब कोविड के मामले काफी कम होने के बाद स्कूल शिक्षा बोर्ड फिर से निरीक्षण टीम के माध्यम से संबद्धता प्राप्ति हेतु आवेदन करने वाले स्कूलों की जांच करेगा। निरीक्षण टीम की जांच ही स्कूलों की संबद्धता तय करेगी।

1161 स्कूलों ने संबद्धता के लिए आवेदन किया
सत्र 2023-24 के लिए नई संबद्धता के लिए 40 और कक्षा स्तरोन्नत के लिए करीब 34 निजी स्कूलों ने बोर्ड के पास आवेदन कर दिया है। 1161 स्कूलों ने संबद्धता के लिए आवेदन बोर्ड के पास किए हैं। इन आवेदनों में नवीनीकरण के 976, कक्षा स्तरोन्नत के 34, नई संबद्धता के 40, 3-5 वर्ष के लिए 29 व पहले से एफीलेटड (3-5 वर्ष) स्कूलों की संख्या 82 है।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे news4himachal@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।